अमेरिका के इस दावे से लग सकती है, मोदी जी की चौकीदारी पर सेंध


अमेरिका की एक मैगजीन ने जो अब खुलासा किया है. उससे लोकसभा के चुनाव में बीजेपी को बहुत बड़ा नुकसान हो सकता है. और हो सकता है कि मोदी भक्त भी मोदी जी से नाराज़ हो सकते है. क्योंकि बात ही कुछ ऐसी हो गयी है.

दरअसल अमेरिका की न्यूज पब्लिकेशन ‘फॉरेन पॉलिसी’ के मुताबिक पाकिस्तान के पास अमेरिका ने जितने एफ-16 लड़ाकू विमान दिए थे उनमें से कोई भी ‘लापता’ नहीं है और उनमें से किसी को भी कोई नुकसान नहीं पहुंचा है.

अब इस खुलासे के बाद भारत में भी राजीनीति होना भी लाज़मी है. क्योंकि मामला पाकितान के जुड़ा हुआ है. आप को दें 26 फरवरी को भारतीय वायुसेना की एयरस्ट्राइक के एकदिन बाद कई पाकिस्तान के कई लड़ाकू विमान भारतीय वायुसीमा में घुस आए थे. जिसके बाद जवाबी कार्रवाई करते हुए भारतयी वायुसेना ने उनका सामना करते हुए उन्हें खदेड़ दिया था और भारत ने इसके बाद तीनों सेना प्रमुखों की जॉइंट प्रेस्स्कोंफ्रेंस कर पाकिस्तान के एफ-16 का मलबा दिखया था.

जिसके बाद पाकिस्तान ने कहा था कि किसी भी एफ-16 विमान का इस्तेमाल नहीं किया गया और साथ ही पाकिस्तान के विमान को भारतीय वायुसेना द्वारा मार गिराए जाने के दावे का भी उसने खंडन किया था. मैगजीन के अनुसार, पाकिस्तान ने इस घटना के बाद अमेरिका को एफ-16 लड़ाकू विमान की गिनती करने के लिए आमंत्रित किया था.

अब इस पुरे मामले पर मैगजीन जर्नलिस्ट लारा सेलिगमेन का कहना है कि ‘पाकिस्तान के एफ-16 बेड़े की गणना के दौरान अमेरिका ने पाया कि सभी विमान मौजूद हैं और उन्हें कोई नुकसान नहीं पहुंचा जो सीधे तौर पर भारत के इस दावे के विपरीत है कि उसने फरवरी को हुई झड़प में उसका एक लड़ाकू विमान मार गिराया था.’

अब इस मामले का आसर भारत की राजनीती में कितना होता है ये तो आने वाला वक़्त ही बताएगा. बता दें कि केंद्रीय रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने भारत से हुई एयरस्ट्राइक के बाद एक इंटरव्यू में कहा था कि “हम न निश्चित रूप से कह रहे हैं एक एफ-16 विमान हमने मार गिराया है, और शुरू में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने दावा किया था कि दो पायलट उनके पास हैं… एक पायलट हमारा था, और नियमों के मुताबिक लौटा दिया गया… दूसरा पायलट कौन है…?”


अपने विचार साझा करें


शेयर करें