‘मैं धरती का नहीं मंगल ग्रह का निवासी हूं’, जब लड़के ने किए चौंकाने वाले खुलासे


वैज्ञानिक दशकों से दूसरे ग्रहों पर जीवन की तलाश में लगे हुए हैं। एलियंस के अस्तित्व पर न जाने कितनी ही रिसर्च और किताबें लिखी जा चुकी है। लेकिन अब खबर आ रही है कि मंगल ग्रह से आया एक लड़का रूस में है जो इन दिनों वैज्ञानिकों के बीच शोध का विषय बना हुआ है। वोल्गोग्रैड के रहने वाले 20 वर्षीय बोरिस्का मिप्रियानोविच नामक लड़के ने अंतरिक्ष को लेकर अपने अद्भुत ज्ञान से वैज्ञानिकों और खगोलशास्त्रियों को हैरत में डाल दिया है।

स्रोत

बोरिस्का की माँ के अनुसार उनका बेटा खास है, जिसने मात्र 01 साल की उम्र में अखबार पढ़ना शुरु कर दिया था। इतना ही नहीं वो 2 साल की आयु में पढ़-लिख सकता था और ढाई वर्ष की आयु में उसने पेंटिंग बनानी शुरु कर दी थी।

बोरिस्का ने किए चौंकाने वाले खुलासे


स्रोत

बोरिस्का शुरुआत से ही अंतरिक्ष और एलियंस की बातें करता आया है। उसने वैज्ञानिकों को बताया है कि मंगल ग्रह में वास्तव में जीवन है। वहां आज भी करीब 7 फ़ुट लंबे ‘मार्टियंस’ मौजूद हैं। वे भी जीवित रहने के लिए सांस लेते हैं लेकिन ऑक्सीजन की जगह वे कार्बन डाइऑक्साइड का उपयोग करते हैं। लेकिन मंगल ग्रह पर हुए न्यूक्लियर युद्ध के कारण वहां की सभ्यता नष्ट हो चुकी है। बोरिस्का के अनुसार मार्टियंस अमर होते हैं और 35 की आयु के बाद उनकी उम्र नहीं बढ़ती है। बोरिस्का ने दावा किया है कि पूर्व जन्म में वो एक मार्टियन पायलट था और ब्रह्माण्ड का चक्कर लागाते समय धरती पर भी आया था। उसके मुताबिक मिस्र में मौजूद Great Sphinx में कई राज़ छिपे हैं जो अगर सामने आ गए तो धरती पर जिंदगी पूरी तरह बदल जाएगी।

स्रोत

अपने विचार साझा करें


शेयर करें