चिल्लर लेकर पहुंचे बाइक खरीदने, फिर क्या हुआ पढ़िए पूरी कहानी


बूंद- बूंद से घड़ा भरता है

Source

एक कहावत है कि ‘बूंद- बूंद से घड़ा भरता है।‘ इस कहावत को मध्यप्रदेश के रायसेन में रहने वाले एक परिवार ने चरितार्थ कर दिखाया। इस परिवार के सदस्यों ने पाई- पाई जोड़कर अपने सपनों को पूरा किया है। जी हां बचत की बेहद अनोखी मिसाल तब सबके सामने आई, जब इस परिवार के मुखिया हसीब हिंदुस्तानी अपने हाथों में चार थैले लिए एक बाइक के शोरूम में पहुंचे। पहले तो शोरूम का मालिक घबरा गया। लेकिन उसके बाद जब शोरूम के मालिक ने हसीब हिंदुस्तानी की कहानी सुनी तो उसके आंखों से आंसू छलक पड़े।

डीलर के आखों से छलक पड़े आंसू

Source

दरअसल, हसीब हिंदुस्तानी चार थैलों में करीब 57 हजार रुपए के चिल्लर लेकर बाइक के शोरूम पहुंच गया। जिसे देख वहां मौजूद सभी लोग हैरान रह गए। हसीब इन चिल्लरों के बदले में बाइक खरीदना चाहता था। लेकिन पहले तो शोरूम के मालिक ने उसे चिल्लरों के बदले बाइक देने से मना कर दिया, लेकिन फिर जब उसने हसीब की पूरी कहानी सुनी तो उसके आंखों में आंसू आ गए और उसने हसीब को उसकी मनपसंद बाइक हीरो स्पलेंडर दे दी। हसीब हिंदुस्तानी के मुताबिक उसके घर में दस लोग हैं, जो पिछले तीन सालों से बाइक खरीदने के लिए पाई- पाई जोड़ रहे थे।

चिल्लर लेकर पहुंचा बाइक खरीदने


Source

हसीब के दिए चिल्लरों को गिनने के लिए शोरूम के पूरे स्टॉफ को लगाना पड़ा। तब भी चिल्लरों की गिनती का काम तीन घंटे में पूरा किया गया। डीलर के अनुसार, हसीब 10 के 322 सिक्के, पांच के 1,458 सिक्के, दो के 15,645 सिक्के और एक के 14,600 सिक्के लेकर उनके पास पहुंचे थे। शोरूम वालों ने बताया कि सारे चिल्लरों को बैंक में जमा करवा दिया जाएगा, ताकि बैंक में खुल्लों की कमी से थोड़ा निजात मिल सके।

Source

पीएम मोदी से मिली प्रेरणा

रायसेन शहर में एक दुकान चलाने वाले हसीब हिंदुस्तानी ने बताया कि पीएम मोदी उनके रोल मॉडल हैं और उन्हीं से उसे छोटी- छोटी बचत की सीख मिली। पीएम मोदी ने अपने एक भाषण में छोटे- छोटे बचत के बारे में बताया था, जिसके बाद उसके परिवार ने बचत का ये तरीका अपनाया।

खुद में मिसाल हैं हसीब हिंदुस्तानी

हसीब हिंदुस्तानी, हम ऐसे लाखों हिंदुस्तानियों की प्रेरणा हैं, जो सपने देखते तो हैं लेकिन उसे पूरा ना कर पाने के डर से पहले ही कदम पीछे हटा लेते हैं। बेशक हसीब हिंदुस्तानी का परिवार हमारे समाज के लिए एकता और संयमता की एक मिसाल बनकर उभरा है।


अपने विचार साझा करें


शेयर करें