हर मैच में धोनी अपना बैट बदल लेते है, आखिर वजह क्या है?


इंडिया टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी इस वर्ल्ड कप में किसी न किसी वजह से चर्चा में बने हुए है. पहलें उनके ग्ल्प्स को लेकर कॉन्ट्रोवर्सी हुई फिर भारत और इंग्लैंड के बीच हुए मैच में धीमा खेलने की वजह है.

अब एक बार फिर धोनी सुर्खियों में है. दरअसल इस वर्ल्ड कप में धोनी अलग अलग बैटो से खेलते दिखा रहे है.गौर करने वाली बात है कि बैट पर लगे स्टीकर भी अलग-अलग कंपनियों के हैं.

इंग्लैंड के खिलाफ जब धोनी बैटिंग करने आए तो SG ब्रांड का स्टीकर लगा बैट लेकर आए. लेकिन बाद में उन्होंने जो बैट मंगाया उस पर BAS का स्टीकर लगा था. जो कि वैंपायर कंपनी का है.

कंपनी धोनी के साथ 2004 से पहले से जुड़ी हुई है. यानी कि इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू करने से पहले से. वेस्ट इंडीज के खिलाफ मैच में धोनी के बल्ले पर SUNRIDGES का स्टिकर लगा था.

सब से बड़ी बात तो ये है कि धोनी इसके लिए किसी भी प्रकार का चार्ज नहीं लेते है, और न ही किसी कंपनी से किसी भी प्रकार का डील साइन करते है. इस बात की पुष्टि वैंपायर कंपनी के मालिक ने मुंबई मिरर को दिए इंटरव्यू में कहीं उन्होंने कहा “धोनी के साथ हमारा जुड़ाव काफी पहले से है. आप उनकी बायोपिक में भी इसे देख सकते हैं. यह इंसान की महानता को दिखाता है कि वह क्या कर रहा है.”

यही बात SG ब्रांड के मालिक ने भी कही. वहीं दूसरी तरफ धोनी के मैनेजर अरुण पांडेय ने बताया, कि ”यह बात सही है कि धोनी अलग-अलग ब्रांड्स के बैट यूज कर रहे हैं. लेकिन इसके लिए वे कोई चार्ज नहीं ले रहे हैं. वे उन सभी को अपने करियर के उतार-चढ़ाव के दौरान साथ देने के लिए शुक्रिया कहना चाहते हैं. BAS उनके साथ शुरुआती दिनों से ही जुड़ा हुआ है, जबकि SG ने भी उनका काफी साथ दिया है.”

अगर दुसरे बैट्समैनों की बात करें तो वे अपने बैट पर स्टिकर लगाने के लिए साल भर का 4-5 करोड़ रुपए लेते हैं. और सेंचुरी और मैन ऑफ दी मैच का अलग. आईपीएल इसका एक बहुत बड़ा उद्धरण है . वहीं धोनी इस सब के उलट धोनी के इस काम ने एक बार फिर सब का दिल जीत लिया है.


अपने विचार साझा करें


शेयर करें