लड़का दसवीं में 100 में से ले आया 35 नंबर और रच दिया इतिहास


हर बालक के जीवन में दसवीं और बारहवीं का साल किसी महायुद्ध से कम नहीं होता. इस महायुद्ध में उसके माता पिता भी उनके साथ पूरी महेनत करते है. और साथ साथ में ये भी कहते रहतें है कि ” बस इस बार महेनत कर लो फिर तो मजे ही मजे है”. और हम भी अपने माता पिता की बातों में आ कर जबरदस्त पढाई करने लग जाते है.

और फिर अच्छे नम्बरों से पास हो गए तो ठीक है, नहीं तो फिर जो कुटाई होती है. वो किसी पुलिस के थर्ड डिग्री से कम नहीं होती है. कसम से ऐसा लगता है कि दुनिया भर के सरे गुनाह हम ही ने किए हो. और ये ऐसा गुनाह होते है जिनके दाग जींदगी भर साफ़ नहीं हो पते है.

इसलिए हर बच्चा यही सोचता है कि” हे भगवान बस पासिंग मार्क्स ही दिलवा देना”. कुछ लोग तो और बड़े वाले होते है. आंसर शीट में 100 की हरी पत्ती चिपका देते है. मतलब जो टीचर कॉपी चेक कर रहा हो उसको टेबल के नीचे से रिश्वत दें कर पास होने की कोशिश करते है.

खैर मुंबई के एक लड़के ने ऐसा कारनामा कर दिया है, जो अपने आप में एक रिकॉर्ड बन गया है. दरअसल अक्षित जाधव नाम के इस लड़के ने इस साल अपनी दसवीं के एग्जाम दिए. और जब रिजल्ट आया तो नंबरों को देखकर सब चौक गए. अक्षित के सारे सब्जेक्ट में 35 नंबर आए थे. और तो और पासिंग मर्स्क 35 नंबर ही थे. मतलब आप ये कह सकते हो कि जाधव साहब की लुटिया डूबने से बाल बाल बच गयी.

मुंबई की मीरा रोड के शांति नगर हाई स्कूल में पढ़ने वाला अक्षित जाधव की मार्क शीट सोशल मीडिया में अपलोड हुई है वो रातोंरात इंटरनेट सेंसेशन बन गया.

इस मार्कशीट को एक फेसबुक यूजर ने अपने अकाउंट से अपलोड किया वहीं दूसरी तरफ अक्षित के पिता का ये कहना था कि उन्होंने सोचा था कि उनका बेटा कम से कम 55 प्रतिशत मार्क्स तो ले आएगा. पर उनको इस बात कि ख़ुशी है कि वो सारे सब्जेक्ट में पास हो गया.

आप को बता दें कि अक्षित ने भी इस तरह का रिजल्ट नही सोचा था. पर वो इस बात से खुश है कि वो सब में पास है. वो एक फुटबॉल प्लेयर है और अपना करियर स्पोर्ट्स में ही बनाना चहता है.


अपने विचार साझा करें


शेयर करें