हर साल लाखों लोग जाते हैं नर्क? आप भी देखिए दिल दहला देने वाला मंजर


दुनिया में सदियों से स्वर्ग और नर्क की थ्योरी चली आ रही है। माना जाता है कि अच्छे कर्म करने वाले पुण्य कमाते हैं और मरने के बाद स्वर्ग जाते हैं। स्वर्ग एक बेहद खुबसूरत जगह है जहां जरुरत की सभी चीजें मौजूद है और वहां परियां रहती हैं। इसके उलट बुरे कर्म करने वालों को मरने के बाद नर्क जाना पड़ता है जहां उन्हें उनके गलत कामों के लिए सजा दी जाती है।

स्रोत

जहां स्वर्ग को पृथ्वी के ऊपर बताया जाता है तो वहीं नर्क को पृथ्वी के नीचे दरसाया जाता है। तो चलिए आज हम आपको नर्क में लेकर चलते हैं ताकि आप देख सकें कि मौत के बाद किस तरह से पापी आत्माओं को सजा दी जाती है। अरे डरिये मत, इसके लिए आपको पाताल लोक में नहीं जाना पड़ेगा। हम आपको धरती पर ही नर्क के दर्शन करा देंगे।

स्रोत

दरअसल दुनिया में एक ऐसा मंदिर है जहां पर किसी देवता की पूजा नहीं होती है। फिर भी हर साल लाखों लोग इस मंदिर में दर्शन करने आते हैं। अब आप सोच रहे होंगे कि ऐसा क्यों? तो ऐसा इसलिए क्योंकि इस मंदिर में विभिन्न मूर्तियां हैं जो नर्क में मिलने वाले दंड को दर्शाती है। खास बात यह है कि ये मंदिर भारत में नहीं बल्कि थाईलैंड में है।


स्रोत

थाईलैंड की राजधानी बैंकोक से करीब 700 किलोमीटर दूर स्थित ये मंदिर भगवान् बुद्ध को अधिक मानता है। इसे नर्क मंदिर कहा जाता है जो चियांगमाई शहर में है। यहां प्रदर्शित प्रतिमाओं पर भारतीयता की छाप साफ़ देखी जा सकती है। इस मंदिर की कल्पना एक बौद्ध भिक्षु ने की थी जिनका नाम प्रा क्रू विशान जालिकोन था। यहां नर्क का चित्रण इतनी बखूबी से किया गया है कि देखने वालों की रूह कांप उठे।


अपने विचार साझा करें


शेयर करें