पूर्व आईपीएस संजीव भट्ट ने पूछा- कोई मुस्लिम टीम इंडिया में है ? भज्जी के जवाब ने किया क्लीन बोल्ड


भारतीय क्रिकेटर हरभजन सिंह ने गुजरात के निलंबित एक आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को ऐसा जवाब दिया, जिसे सुनकर हर भारतीय गर्व महसूस करेगा।

Source

गुजरात के पूर्व आईपीएस अफसर संजीव भट्ट का एक पोस्ट सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है,संजीव भट्ट ने सवाल के साथ- साथ क्रिकेटर हरभजन सिंह का मुंहतोड़ जवाब भी लोगों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है। संजीव भट्ट ने एक विवादित पोस्ट डाल कर इंडियन क्रिकेट टीम में किसी मुस्लिम खिलाड़ी के न होने पर सवाल उठाया। भट्ट के इस सवाल का भारतीय गेंदबाज हरभजन सिंह ने करारा जवाब दिया।

Source

पूर्व आईपीएस संजीव भट्ट ने अपने फेसबुक और ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया कि- ‘क्या इस समय भारतीय क्रिकेट टीम में कोई मुस्लिम खिलाड़ी है? आजादी से आज तक ऐसा कितनी बार हुआ कि भारत की क्रिकेट टीम में कोई मुसलमान खिलाड़ी ना हो? क्या मुसलमानों ने क्रिकेट खेलना बन्द कर दिया है? या खिलाड़ियों का चुनाव करने वाले किसी और खेल के नियम मान रहे हैं?

इसके जवाब में हरभजन सिंह ने लिखा, ‘हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई आपस में है भाई। क्रिकेट टीम में खेलने वाला हर खिलाड़ी हिंदुस्तानी है उसकी जात या रंग की बात नहीं होनी चाहिए (जय भारत)।’ भज्जी ने कहा कि भारतीय टीम में कभी भेदभाव नहीं हुआ है। यहां खिलाड़ियों को पूरा सम्मान मिलता है, फिर चाहे वो किसी भी धर्म, जात का क्यों न हो।

टीम इंडिया में भारतीय खिलाड़ियों के चयन पर सवाल उठाने वाले गुजरात के पूर्व आईपीएस संजीव भट्ट को ‘टर्बनेटर’ हरभजन सिंह के बाद अब तेज गेंदबाज आरपी सिंह ने भी निशाने पर लिया है। गेंदबाज आरपी सिंह ने ट्वीट किया,’हम 125 करोड़ देशवासियों का प्रतिनिधित्व करते हैं, जाति, धर्म, रंग, भेद हमेशा बाउंड्री के बाहर रहे हैं और आगे भी रहेंगे. जय हिन्द, जय भारत।’

सिर्फ हरभजन सिंह और आरपी सिंह ने ही नहीं बल्कि बहुत सारे लोगों ने संजीव भट्ट के इस पोस्ट का कड़ा विरोध किया है। तो बहुत सारे लोगों ने भज्जी के जवाब का भी समर्थन किया।

निलंबित आईपीेएस अफसर संजीव कपूर का विवादों से नाता रहा है। इससे पहले संजीव भट्ट सेक्स स्कैंडल में भी फंस चुके हैं और इन्होंने 2002 में हुए गुजरात दंगों को लेकर तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की भूमिका पर सवाल उठाए थे।

हम भी हरभजन सिंह का पूरी तरह से समर्थन करते हैं, और आप ?


अपने विचार साझा करें


शेयर करें