धोनी जब आउट हुए उस वक़्त फील्डिंग गलत लगी थी, सोशल मीडिया पर लोग उठा रहे है ऐसे सवाल


वर्ल्ड कप 2019 का पहला नॉकआउट और सेमीफाइनल मैच भारत और न्यूज़ीलैंड के बीच खेला गया. बारिश के चलतें पहले दिन का खेल बिगाड़ गया था. दुसरे दिन न्यूज़ीलैंड ने भारत को 18 रनों से हरा कर फाइनल में जगह बना ली.

न्यूजीलैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में आठ विकेट पर 239 रन बनाये. टारगेट का पीछा करने उतरीं टीम इंडिया 221 रन के स्कोर पर ढेर हो गई. इसी के साथ भारत का वर्ल्ड कप जीतने का भी सपना ख़तम हो चूका है, वहीं सोशल मीडिया में एक विडियो बड़ी तेज़ी से वायरल हो रहा है. जिसमे ये दावा किया जा रहा है कि न्यूज़ीलैंड ने धोनी को जिस बोल पर आउट किया वो नो-बॉल थी.

रोंगटे खड़े कर देने वालें मैच के अंतिम 2 ओवरों में भारत को जीत के लिए 31 रन की जरुरत थी. मैच फस चूका था और भारत का स्कोर उस वक़्त 209 रन था, फील्ड में धोनी और भुवनेश्वर कुमार बैटिंग कर रहे थे. और बोलिंग कर रहे थे फर्ग्युसन. पहली बॉल पर धोनी ने छक्का मार दिया. अब जीत के लिए 11 गंदो में 25 रन बनाने थे.अगली बॉल डॉट रही. ओवर की तीसरी गेंद पर धोनी ने बल्ला चला कर रन के भागने लगे लेकिन फील्डिंग कर रहे मार्टिन गप्टिल ने स्टंप में डायरेक्ट थ्रो कर दिया और धोनी आउट हो गए. धोनी ने 72 गंदो में अपना अर्धशतक बनाया.

मैच का ये मोमेंट अब डिबेट की वजह बन रहा है. सोशल मीडिया में लोग ये कह रहे है कि जिस बॉल पर धोनी आउट हुए उससे ठीक पहले हॉटस्टार पर न्यूज़ीलैंड की फील्ड प्लेसमेंट का ग्राफिक्स दिखाया गया था. जिसके मुताबिक 6 खिलाड़ी सर्कल से बाहर थे जब कि नियमों के मुताबिक तीसरे पावर प्ले में तीस गज के दायरे के बाहर अधिकतकम 5 खिलाड़ी ही बाहर रह सकते हैं.

यहाँ नोट करने वाली बात ये है कि अगर वो गेंद नो-बॉल भी होती तो भी धोनी आउट ही होते क्योंकि आईसीसी के नियमों के अनुसार नो बॉल रहने पर रन आउट के अलावा किसी और तरीके से बल्लेबाज आउट नहीं हो सकता.

अब इस मामले पर सोशल मीडिया पर लोग आईसीसी को ही लताड़ रहे है. ये समझ लीजिये जो लोग कभी क्रिकेट नहीं देखतें है वो भी अपना ज्ञान बांट रहे है. और हो भी क्यों न क्रिकेट खेल ही ऐसा है.

#1

#2

#3

#4

#5

#6


अपने विचार साझा करें


शेयर करें